भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कुवां पाणी कसी जाऊँ रे नजर लगी जाय / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कुवां पाणी कसी जाऊँ रे, नजर लगी जाय।
नजर लगी जाय, हवा लगी जाय।।
म्हारा साहेबजी का बाग घणा छे,
फुलड़ा तोड़णऽ कसी जाऊँ रे, नजर लगी जाय।
म्हारा साहेबजी का कुवां घणा छे,
पाणी भरणऽ कसी जाऊँ रे, नजर लगी जाय।
नजर लगी जाय, हवा लगी जाय।।