भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुहासा / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


यह
क्यों होता है
अहं का कुहासा
घेर लेता है हरदम

वही छत
वही दीवारें
और हम
एक दूसरे के लिए
अनजबी हो जाते हैं

उड़ती निगाहों से देखते हैं
और अपने-अपने
काम में व्यस्त
हो जाते हैं
चलता है कुछ दिन
यह क्रम
 
हम अकेले हैं
कितने अकेले हैं
मेरा, और शायद
तुम्हारा भी
एकाकीपन
औपचारिकता के आवरणों
को दूर फेंक देता है
 
और हम
अपने एकाकीपन के साथ
एक ही शय्या पर
आह्लाद, अवसाद से
अनछुये
पड़े रह्ते हैं
नई सुबह होने तक ।