भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुहू / कीर्ति चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन बीते कभी इस शाख पर
किसी कोयल को कूकते सुना था ।

तब से जब भी इस ओर आती हूँ
बार-बार कानों में वही 'कुहू'
गूँजती हुई पाती हूँ ।

जैसे मेरे मन के लिए
एक बार पा लेना ही हमेशा की थाती है ।
या वह कोयल की कूक है
जो अमराई में छा ही जाती है ।