भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कृष्ण का व्यामोह / शिशुपाल सिंह यादव ‘मुकुंद’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वृन्दावन की कुञ्ज गली में, मुरली मधुर बजाई थी
विमल गोपियों के संग मैंने, लीला रास रचाई थी
द्वापर में क्रीड़ा करने को, अब भी जी ललचाता है
अरे जरा ! मंगल हो तेरा,कृष्ण धारा से जाता है

दुर्योधन के घोर दुराग्रह से,जन-धन की हानि हुई
गत जीवन के अवलोकन से,मन में भारी ग्लानि हुई
मुझे महाभारत का दारूण,शाप दौड़ कर खाता है
अरे जरा ! मंगल हो तेरा,कृष्ण धारा से जाता है

रण में शास्त्र न धरने मम प्रण गांगेय ने तोड़ दिया
लज्जा से पानी पानी हो,सकुच सहित मुख मोड़ लिया
गांधारी का समाधान क्या,मेरा मन कर पाता है
अरे जरा ! मंगल हो तेरा,कृष्ण धारा से जाता है

ब्रम्ह स्वयं लघु जीव बना मैं,यही प्रबल मेरी माया
तेजहीन हो गया आज मैं,कुंठित है मेरी काया
पार्थ -सखा कहलाने में अब,मेरा मन कतराता है
अरे जरा ! मंगल हो तेरा,कृष्ण धारा से जाता है

बाण पैर से दे निकाल तू,ब्याध! व्यर्थ क्यों रोता है
जो होना है सब अच्छे के,लिए जगत में होता है
मन्द-मन्द मुस्कान लिए यह,कलियुग सम्मुख आता है
अरे जरा ! मंगल हो तेरा,कृष्ण धारा से जाता है