भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केंचुआ / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केंचुआ

केंचुआ
पैदाइशी अंधा नहीं होता
--वह भीरु होता है,
कुछ बेहतर कर गुजरने की चाह में
सिर टकरा-टकराकर
अपनी आँखें फोड़ देता है

केंचुआ भ्रष्टाचार नहीं करता
वह विष, कार्बन, रेत-रेह
सब निगलकर
जन्म देता है--
एक उपजाऊ व्यवस्था का

क्या सचमुच
केंचुआ बनने का
दमखम है हममें,
नि:संदेह!
केंचुआ बनने के लिए
हमें अपने भौतिक-अभौतिक अस्तित्त्व को
खंगालना होगा,
खुद को
एक परिशोधन-शाला बनाना होगा.