भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केदारनाथ सिंह को याद करते हुए / निशांत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहली बार
कहाँ देखा था केदारनाथ सिंह को
कोलकाता के ठनठनियों काली मंदिर के पास
एक गोरा-गारा ठिगना आदमी
चला जा रहा था दो-चार लोगों के साथ

"यही केदारनाथ सिंह हैं।
हिंदी के सबसे बड़े कवि।"
मित्र प्रकाश ने कहा था

"नहीं, एशिया के सबसे बड़े कवि।"
पत्रकार कृपाशंकर चौबे ने कहा था

हम
अभिभूत थे

क़िताबों से निकलकर
एक सच्ची-मुच्ची आदमी खड़ा था
हमारे बीच
थोड़ा सा छूकर
देखना चाहते थे उन्हें हम

चाहते थे
हो जाए एक फ़ोटो
उनके साथ
बड़े होने के बाद
एक बार बचपन फिर आ गया था हमारे अंदर
तुम्हारे कारण

केदारनाथ सिंह!
धन्यवाद!