भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैड़ा जबरा मिनख हो थें / आशा पांडे ओझा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जद सूं थे गया हो बिदेश
मन रै आंगणै
आंसूड़ा बांध ली है आपरी ढाण
दरद ई कद कौ बैठियौ है
ढोलियो ढाळ
पग पसार बैठी है
आ बैरण ओळ्यूं
करतां-करतां आं सगळां सूं
माथा कूट
हुगी हूं काठी बावळी
थांन्नै कीं गिनार ई कोनी
कैड़ा जबरा मिनख हो थें।