भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैफ़ जो रूह पे तारी है तुझे क्या मालूम / सिकंदर अली 'वज्द'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैफ़ जो रूह पे तारी है तुझे क्या मालूम
उम्र आँखों में गुज़ारी है तुझे क्या मालूम

निगह-ए-अव्वल-ए-बे-बाक ने मेरे दिल पर
तेरी तस्वीर उतारी है तुझे क्या मालूम

मेहर या क़हर तिरे चाहने वाले के लिए
हर अदा जान से प्यारी है तुझे क्या मालूम

वक़्त कटता ही नहीं सुब्ह-ए-मर्सरत आ जा
रात बीमार पे भारी है तुझे क्या मालूम

एक मुद्दत से यहाँ उम्र-ए-रवाँ तेरे बग़ैर
वक़्फ-ए-आलम-शुमारी है तुझे क्या मालूम

ख़ंदा-ज़न सूरत-ए-गुल दामन-ए-सद-चाक मिरा
परचम-ए-फ़स्ल-ए-बहारी है तुझे क्या मालूम

गुल-ए-नौ-ख़ास्ता काँटों का हक़ारत से न देख
किस की तक़दीर में ख़्वारी है तुझे क्या मालूम

‘वज्द’ ना-पैदी-ए-एहसास-ए-मर्सरत का सबब
आदत-ए-गिर्या-ओ-ज़ारी है तुझे क्या मालूम