भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसे व्याहू राधा कन्हैया तेरो कारो / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कैसे व्याहूं राधा, कन्हैया तेरो कारो
घर-घर की वो गउवें चरावे
ओढ़त कम्बल कारो-कारो। कैसे...
छीन झपट दधि, खात बिरज में
चलेगो कैसे राधा संग गुजारो। कैसे...
मेरी राधा अजब सुंदरी
तेरो कन्हैया है कारो-कारो। कैसे...
पीताम्बर की कछनी बांधे
मोहन मुरलिया बारो न्यारो। कैसे...