भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई नहीं है तेरा / मधुरिमा सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई नहीं है तेरा
जोगी,
कोई नहीं है तेरा
क्या लाया जो ले जाएगा, करता मेरा-मेरा
दाना डाल के पाँच सुखों का, तन ने जाल बिखेरा
तन को छूकर तन जागे है, भूखा तप्त अँधेरा
सतरंगी सपनो की माया, रचता भाग्य-चितेरा
रिश्ते-नाते बुझ जाते हैं, तन जब आग ने घेरा
तेरे अन्दर बैठा जोगी, बाहर जिसको हेरा
जोगी ! मधु आए ना आए, जनम-जनम का फेरा