भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई वाकये-ख़याल है क्या / अनुपम कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई वाकये-ख़याल है क्या
अब भी कोई सवाल है क्या

सर्द रात में फूटे हैं पटाखे
अब से नया साल है क्या

तुम कम-से-कम मत कहो
‘ये भी कोई हाल है क्या’?

बोझ से लदा हूँ बुरी तरह
पूछते हो ये चाल है क्या?

पहन के निकले हो बुलंदियां
जेब में भरा माल है क्या
 
आंसू न रुकते तुम्हारे ‘अनुपम’
दिल में कोई गहरा ताल है क्या