भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोशिशें उतनी ही कीजिए जितनी कि... / ऋतु त्यागी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोशिशें उतनी ही कीजिए
जितनी कि ज़िंदगी के कैलेन्डर में तारीख़ें
मसलन पैदाइश से लेकर
मौत तक के आंकड़ों का सफ़र
जन्मतिथि से पुण्यतिथि तक का सफ़र
और इस बीच भूख मिटाने से लेकर
सिर पर छप्पर तक की कोशिशों का दौर
अहसासों के चिरागों को
जलाये रखने की कुछ ज़िदा कोशिशें
बल्कि यूँ कहिये मियाँ
कि हम सब तारीख़ों में क़ैद हैं
और तारीख़ें मौत के बाद
यादों के मंज़र में भटकती रूहें
जिनके ठिकाने
किसी गुमशुदा याद की तरह
कभी नहीं मिलते ।