भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

को नक़्शु न का लीक जुड़ी मुंहिंजे हुअण जी / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

को नक़्शु न का लीक जुड़ी मुंहिंजे हुअण जी।
किअं कहिड़ी ॾियां साबिती मां पंहिंजे जिअण जी॥

हिक रड़ि खां सिवाइ ॿियो मूं वटि आहे बि बचियो छा!
उम्मीद रखो मूं खां न कुछु और ॿुधण जी॥

इन्साफ़ जी ॾाढनि ते इनायत जी नज़र आ!
ॾाहनि खां हिदायत थी मिले माठि रहण जी॥

चौवाटै ते बीठो ॿिचिताईअ जा सहां सूर।
हिम्मथ खसे वियो ख़ौफ़ कोई रस्तो वञण जी॥

बेरहम बणिजी खु़द ते वसी जीउ थो ठारियां।
सारियां थो सघ ॿिए खे जो मां कुछु भी चवण जी॥

हिक चोट ते ॿीअ चोट जे आमद जी ख़बर आ।
छॾि हेर कमल हाणे तूं धावनि खे ॻणण जी॥