भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन है? / महेश अनघ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन है ? सम्वेदना !
कह दो अभी घर में नहीं हूँ ।

कारख़ाने में बदन है
और मन बाज़ार में
साथ चलती ही नहीं
अनुभूतियाँ व्यापार में

क्यों जगाती चेतना
मैं आज बिस्तर में नहीं हूँ ।

यह, जिसे व्यक्तित्व कहते हो
महज सामान है
फर्म है परिवार
सारी ज़िन्दगी दूकान है

स्वयं को है बेचना
इस वक़्त अवसर में नहीं हूँ ।

फिर कभी आना
कि जब ये हाट उठ जाए मेरी
आदमी हो जाऊँगा
जब साख लुट जाए मेरी

प्यार से फिर देखना
मैं अस्थि-पंजर में नहीं हूँ