भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौवा और कोयल‌ / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रखे टोकरी सिर पर कोयल,

इठलाते इठलाते आई|

कौवे के घर की चौखट पर,

“सब्जी ले ले” टेर लगाई |

 

कौवा बोला नहीं पता क्या?

कितनी ज्यादा है मँहगाई|

सब्जी लेने के लायक अब ,

नहीं रहा है तेरा भाई|

 

ऐसा कहकर कौवेजी ने,

आसमान में दौड़ लगाई|

फिर नीचे आकर मुन्ना की,

रोटी झपटी, छीनी खाई|

 

कौवे की हरकत को दुनियाँ,

वालों ने समझा चतुराई|

छीन छीन कर खाने में ही,

लोग समझने लगे भलाई|

 

पर चिड़ियों ने चुग चुग दाना,

जीवन की सच्चाई बताई|

कड़े परिश्रम की रोटी ही,

होती है सबसे सुखदाई|