भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौवा का स्कूल‌ / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

                सिर पर भारी बस्ता लादे,
                कौवा जी पहुँचे स्कूल|
                लेकिन जल्दी जल्दी में वे,
                रबर पेंसिल आए भूल|
 
                टीचर जी कौवा से बोले,
                वापिस घर को जाओ|
                रबर पेंसिल लेकर ही तुम,
                फिर शाला को आओ|