भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या कहूँ कुछ कहा नहीं जाता / सुरेन्द्र सुकुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या कहूँ कुछ कहा नहीं जाता।
दरदे-दिल अब सहा नहीं जाता।

सत्य ही में जिया हूँ मैं तो,
झूठ के संग जिया नहीं जाता।

यूँ तो सुन वो बेवफ़ा ही है,
बेवफ़ा पर कहा नहीं जाता।

देश क्या है एक फूटा घर है,
अब इस घर में रहा नहीं जाता।

मैं तो तिनका हूँ सुनो नदिया का,
धार के संग बहा नहीं जाता।