भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या कुछ है मेरा दर्द, नहीं जिसको / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या कुछ है मेरा दर्द, नहीं जिसको पता भी
हँसता है मेरे हाल पर तो शख़्स नया भी

करनी है तुम्हें जितनी जफ़ा उतनी करो तुम
होती है मगर दुनिया में इक चीज़ वफ़ा भी

आराम बहुत देता है इक घूँट भी मय का
मुझको तो यही दारू है और ये ही दवा भी

दुनिया में परेशानियाँ होती हैं सभी को
हर शख़्स परेशान है, छोटा भी-बड़ा भी

आया जो यहाँ, जाएगा इक रोज़ यहाँ से
बलबान भी-कमज़ोर भी, अच्छा भी-बुरा भी