भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या पूछते हो शहर में घर और / अहमद 'जावेद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या पूछते हो शहर में घर और हमारा
रहने का है अंदाज़ इधर और हमारा

वो तेग़ न जाने किधर उठती है अभी तो
झगड़ा है दिल-ए-सीना-सिपर और हमारा

जब होश में आए तो उसे देख भी लेंगे
फ़िल-हाल है अंदाज़-ए-नज़र और हमारा

ये मेहर ओ निशाँ तब्ल ओ अलम ख़ूब है लेकिन
बढ़ जाएगा कुछ बार-ए-सफ़र और हमारा

दिल ऐसा मकाँ छोड़ के ये हाल हुआ है
यानी निगह-ए-ख़ाना-बदर और हमारा