भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या मज़ा हो जो किसी से तुझे उल्फ़त हो जाए / मिर्ज़ा मोहम्मद तकी 'हवस'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या मज़ा हो जो किसी से तुझे उल्फ़त हो जाए
जी कुढ़े फिक्र रहे मेरी सी हालत हो जाए

तेरा बीमार दम-ए-नज़ा ये माँग था दुआ
देख लूँ फिर उसे गर थोड़ी से मोहलत हो जाए

जाइयो मत तू सबा बाग़ से ज़िंदाँ की तरफ़
मुझ को डर है न असीरों पे क़यामत हो जाए

ऐ दिल इक दिन तू गुज़र कर तरफ़-ए-अहल-ए-क़ुबूर
ताके देखे से उन्हों के तुझे इबरत हो जाए

देख तस्वीर को मजनूँ की ‘हवस’ रश्‍क न कर
चाहिए इश्‍क में तेरी भी ये सूरत हो जाए