भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या होता कंप्यूटर जी? / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या होता कंप्यूटर पापा,
क्या होता कंप्यूटर जी?

यह डिब्बा है जादू वाला
जिसमें जादूगरी भरी है,
बिना पंख के जो उड़ती है
कंप्यूटर एक सोनपरी है।
कोई ना जिसको कर पाए,
उसको करता कंप्यूटर जी!

कंप्यूटर पर चित्र बनाओ
मनमर्जी के रंग लगाओ,
चाहो तो सब उलट-पुलटकर
अपनी दुनिया नई बसाओ।
सबको खूब हँसता रहता,
पढ़ा-लिखा यह जोकर जी!

हार्डवेयर इसका शरीर है
सॉफ्टवेयर इसका दिल है,
धरती पर रहता है लेकिन
आसमान इसकी मंजिल है।
कहता-मेरे संग-संग उड़ लो,
खा लो थोड़ा चक्कर जी!