भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्यूँ मुझे बार-बार दिखता है / सुनीता काम्बोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्यूँ मुझे बार-बार दिखता है
उसकी आँखों में प्यार दिखता है

उसको पाने की चाह में देखो
हर कोई बेक़रार दिखता है

क्या छुपाता है मेरी नज़रों से
अब मुझे आर-पार दिखता है

रेत बहता है अब हवाओं में
हर तरफ़ थार-थार दिखता है

और कोई मरज़ नहीं उसको
इश्क़ का ही बुख़ार दिखता है

ज़िन्दगी के हरेक पन्नें पर
मुझको गीता का सार दिखता है