भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्यूँ मेरे दर्द-ए-दिल का तू ने मज़ाक उड़ाया / बेगम रज़िया हलीम जंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्यूँ मेरे दर्द-ए-दिल का तू ने मज़ाक उड़ाया
तू भी समझ न पाया ये दर्द कैसे आया

ऐ दिल दुखाने वाले तुझ को ख़ुदा सँभाले
दिल ने दुआ दी तुझ को जब तू ने दिल दुखाया

करना है जो भी उस को अब तो वही करेगा
क्या मेरा दख़ल इस में सब उसी पाया