भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्रीड़ा / शिशुपाल सिंह यादव ‘मुकुंद’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परंपरा से खेल,खेलते सब ही आएं
सब अतिशय मोद, ह्रदय में इससे पाएं
तन-मन को अति पुष्ट,बना देती है क्रीड़ा
सब ही ने इस हेतु उठाया इसका बीड़ा

युवा-वृद्ध अरु बाल,खेल को ही भाते हैं
खेल-खेल में मेल,ढूढ़कर वे लाते हैं
अनुशासन आदर्श, खेल हरदम सिखलाता
धीर -वीर -गंभीर,कुशल सैनिक उपजाता

खेल सदा जारी रहे,तनिक कहीं न विराम हो
सकल खिलाड़ी मुग्ध हों, क्रीड़ास्थल अभिराम हो