भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खटमल राजा / मथुरा नाथ सिंह 'रानीपुरी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमरोॅ कर उड़ीस रखवाली
खाबी दूध-दही ओ छाली
हड्डी-पसली छोड़ी-छोड़ी
अपना देहें लाद लाली॥

कन्नो घूसै कन्नो चूसै
पब्बेॅ-तब्बेॅ खूभे ठूस
जेकरेॅ-तेकरोॅ घोॅर उजाड़ी
अपनै काने पहिरै बाली॥

खटिया में दै बच्चा-अंडा
पेटी की लागै छै हंडा
मारै टीस चुभावी सूंग
खटिया में डेरा दै डाली॥

लगते रौद जाय छै पसरी
चढ़ै दिवारी ससरी-ससरी
नन्हका-नन्हको सनमन-सनमन
परिवारोँ केँ सभ्भ जाली॥

मोॅन करै खटिया दौं जारी
लाठी दै होकरा दौ मारी
पछतावै छी ई राजा केॅ
अपनोॅ घोॅर में पाली-पाली॥