भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खण्डहरमा परिणत घर / ज्ञानुवाकर पौडेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खण्डहरमा परिणत घर भएछ
हताहत यहाँ धेरैको रहर भएछ

द्रौपदी लुटिँदा बीच बजारमै
अन्धो कृष्णजीको नजर भएछ

जनताले चुनेको जनताकै राजमा
जनताकै आवाज बे-असर भएछ

गाउँलेका लागि किन हो कुन्नि
टाढा धेरै टाढा यो शहर भएछ