भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुशी याद आई न ग़म याद आए / सिकंदर अली 'वज्द'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुशी याद आई न ग़म याद आए
मोहब्बत के नाज़ ओ निअम याद आए

ये क्यूँ दम-ब-दम हिचकियाँ आ रही हैं
किया याद तुम ने कि हम याद आए

गुलों की रविश देख कर गुलसिताँ में
शहीदों के नक़्श-ए-क़दम याद आए

बुरों का बहुत नाम जपती है दुनिया
जो अच्छे ज़ियादा थे कम याद आए

दम-ए-नज़्अ जूँही अजल मुस्कुराई
अचानक तुम्हारे कर्म याद आए

मुसीबत में भी बारहा ‘वज्द’ मुझ को
ख़ुदा जानता है सनम याद आए