भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ैर से दिल को तिरी याद से कुछ काम तो है / हसन 'नईम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ैर से दिल को तिरी याद से कुछ काम तो है
वस्ल की शब न सही हिज्र का हँगाम तो है

नूर-ए-अफ़लाक से रौशन हो शब-ए-ग़म कि न हो
चाँद तारों से मिरा नामा ओ पैग़ाम तो है

कम नहीं ऐ दिल-ए-बे-ताब मता-ए-उम्मीद
दस्त-ए-मै-ख़्वार में ख़ाली ही सही जाम तो है

बाम-ए-ख़ुर्शीद से उतरे कि न उतरे कोई सुब्ह
ख़ेमा-ए-शब में बहुत देर से कोहराम तो है

जो भी इल्ज़ाम मिरे इश्‍क पे आया हो ‘नईम’
उन से वाबस्ता किसी तौर मिरा नाम तो है