भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़्वाब की राह में आए न दर ओ बाम कभी / हसन 'नईम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़्वाब की राह में आए न दर ओ बाम कभी
इस मुसाफिर ने उठाया नहीं आराम कभी

रश्‍क-ए-महताब है इक दाग़-ए-तमन्ना कब से
दिन का नज्ज़ारा करो आ के सर-ए-शाम कभी

शब-ए-ख़ैर उस ने कहा था कि सितारे लरज़े
हम ने भूलेंगे जुदाई का वो हँगाम कभी

सरकशी अपनी हुई कम न उम्मीदें टूटीं
मुझ से कुछ ख़ुश न गया मौसम-ए-आलाम कभी

हम से आवारों की सोहबत में वो लुत्फ़ कि बस
दो घड़ी मिल तो सही गर्दिश-ए-अय्याम कभी

ऐ सबा मैं भी था आशुफ़्ता-सरों में यकता
पूछना दिल्ली की गलियों से मिरा नाम कभी

नुदरत-ए-फ़िक्र ने गर साथ जो छोड़ा तो ‘नईम’
अपने सर लेंगे ततब्बो का न इल्ज़ाम कभी