भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खु़द खे कंहिं ग़म जो प्यारो रखु / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खु़द खे कंहिं ग़म जो प्यारो रखु।
दर्द दिल जो, न्यारो रखु॥

हर खु़दा खां किनारो करि।
पाणु इन्सानु पारो रखु॥

वक्त जी लहर मौजी आ-
को नज़र में किनारो रखु॥

शहर में आँ त माण्हुनि सां।
रस्तो भी शहर वारो रखु॥

दिल ते छांयल हुजे भलि राति।
चेहरो पर सुबह वारो रखू॥

भलि क़लमु ज़हर जड़िो करि।
पर ज़बाँ खे न खारो रखु॥