भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेलो खेल सतौलिया / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूठमझूठी खेलें खेल।

बनूँ मैं टीचर,
तुम मॉनीटर।
बाकी बच्चे
पंक्ति बनाकर,
वहाँ खड़े हों, प्रेयर गाएँ।
फिर अपनी कक्षा में जाएँ।

अपनी-अपनी
पुस्तक खोलें।
आपस में
धीरे से बोलें।
बिना बात न शोर मचाएँ।
छुट्टी होते ही घर जाएँ।


खेलो खेल सतौलिया

एक कपडे़ की गेंद बनाओ।
खेलो खेल सतौलिया।
छोटे पत्थर सात उठाओ।
खेलो खेल सतौलिया।
उन्हें जतन से, साथ जमाओ
खेलो खेल सतौलिया।
फिर दो टीमों में बँट जाओ
खेलो खेल सतौलिया।
एक खिलाड़ी गेंद उछाले
खेलो खेल सतौलिया।
सतपत्थर के सिर पर मारे
खेलो खेल सतौलिया।
गेंद लपक जाए तो हारे
खेलो खेल सतौलिया।
और अगर सतपत्थर तोड़े
खेलो खेल सतौलिया।
बिना पिटे फिर उनको जोड़े
खेलो खेल सतौलिया।
तो जीते फिर नंबर पा ले
खेलो खेल सतौलिया।
बारी-बारी टीम खिला ले,
खेलो खेल सतौलिया।