भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेल-खिलौने / विपुल कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जन्म-दिवस पर मिले खिलौने,
मुझको लगते बड़े सलोने।
पास हैं मेरे दो मृगछौने,
ढम-ढम ढोल बजाते बौने।
ठुम्मक-ठुम्मक नाचे बाला,
एक सिपाही पकडे़ भाला।
धुआँ छोड़ता भालू काला,
नाचे बंदर चाबी बाला।
नन्हा पिल्ला प्यारा-प्यारा,
अप्पू हाथी सबसे न्यारा।
छुट्टी में तो ता-रा-रा-रा,
वक्त खेल में बीता सारा।
कहीं पे चलती छुक-छुक रेल,
कहीं दिखाता जोकर खेल।
सबके बीच बढ़ाते मे,
खेल-खिलौने रेलम-पेल।