भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेल कबड्डी / रामसेवक शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देशी खेल हमारा-
खेल कबड्डी का
सबसे सस्ता प्यारा
खेल कबड्डी का।

महँगा क्रिकेट-साथी
टेनिस बल्ला है,
समझ नहीं आता क्यों
इतना हल्ला है।

बोल कबड्डी, बोल कबड्डी
बोलो भी
कितना दम खम है,
आपस में तोलो भी!

करें प्रदर्शन घेर
खिलाड़ी आते हैं,
दिल्ली की संसद में
माँग उठाते हैं।

सबको हो अनिवार्य
कबड्डी, क्या कहना,
मैच कबड्डी वाले
होते ही रहना।

-साभार: नंदन, जुलाई, 1996, 37