भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेल / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आंख ठहर जाती है
मिट जाती है
देखने की चाहत

रूक जाती है
दुनिया
ठहर जाता है
समय

तब
दुनिया नहीं दिखती
रह जाती हैं
कठपुतलियां

नचाते हाथों में
रह गई हैं डोरियां

कब देख सकेंगे
सामने बैठकर
कठपुतली वाले का
तमाशा

बजा सकेंगे
खुश होकर
तालियां !!