भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेल / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 ये बाबूजी की पुस्तक हैं
इनको यहाँ कौन लाया
कहकर अम्मा ने बच्चों को
नकली गुस्सा दिखलाया
मुनिया छिपी मेज के नीचे
 माधव पर रह गया खड़ा
नकली डर दिखलाया उसने
था वह भी चालाक बड़ा
बच्चों को यों डरा देखकर
 माँ ने उनसे मेल किया
   चुपके से तब मुनिया बोली
कैसा अच्छा खेल किया