भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गजराज / दिनेश कुमार शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देख-देख
भूधराकार
उड़ते घन-गज को

बंधे-बंधे गजराज
आज फिर दिन भी झूमे
मुक्ति कामना की तरंग में

फिर जाने क्या सोच
उठा कर सूंड
शिला से अचल हो गये

झूमे ताल तमाल
दसों दिग्पाल
काल के महाखंभ में
बंधे-बंधे भी

यही झूमना
काल हो गया
इस अकाल में
छन्द के लिये