भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गम की आग बड़ी अलबेली कैसे कोई बुझाए / कलीम आजिज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग़म की आग बड़ी अलबेली कैसे कोई बुझाए ।
अन्दर हड्डी-हड्डी सुलगे बाहर नज़र न आए ।

एक सवेरा ऐसा आया अपने हुए पराए,
इसके आगे क्या पूछो हो आगे कहा न जाए ।

घाव चुने छाती पर कोई, मोती कोई सजाए,
कोई लहू के आँसू रोए बंशी कोई बजाए ।

यादों का झोंका आते ही आँसू पाँव बढाए,
जैसे एक मुसाफ़िर आए एक मुसाफ़िर जाए ।

दर्द का इक संसार पुकारे खींचे और बुलाए,
लोग कहे हैं -- ठहरो-ठहरो, ठहरा कैसे जाए ।

कैसे-कैसे दुःख नहीं झेले, क्या-क्या चोट न खाए,
फिर भी प्यार न छूटा हम से आदत बुरी बलाय ।

आजिज़ की हैं उलटी बातें कौन उसे समझाए,
धूप को पाग़ल कहे अन्धेरा दिन को रात बताए ।