भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गये ते जखौरा की हाट रे मोरे रंजन भौरा / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गये ते जखौरा की हाट रे मोरे रंजन भौरा।
गये ते गधैया के पास रे मोरे रंजन भौंरा।
गधैया ने मारी लात रे मोरे रंजन भौंरा।
ऐंगरे टूटे टेंगरे टूटे टूटी हैं लंगड़े की टौन रे मोरे रंजन भौंरा।
अब कैसें निगैं मोरे रंजन भौरा।
ल्याओ चनन कौ चून रे मोरे रंजन भौंरा।
ऐंगरे जोड़े टेंगड़े जोड़ें जोड़ें लंगड़े की टौन रे मोरे रंजन भौंरा।
गये तो जखौरा की हाट रे मोरे रंजन भौंरा।