भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़ज़ल / प्रताप सहगल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब भी तुमने किया गिला होगा
इक समन्दर वहीं हिला होगा

बात कुछ यूँ भी वही और यूँ भी
अपना ऐसा ही सिलसिला होगा

फूल पत्थर में उग के लहराया
यार अपना यहीं मिला होगा

बन्द घाटी में शोर पंछी का
गुल कहीं दूर पर खिला होगा

दूर कुछ संतरी खड़े से दिखे
किसी लीडर का यह किला होगा