भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़ैरहाज़िरी / सिनान अन्तून

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब
तुम चली जाती हो
मुरझा जाती है यह जग।

मैं
इकट्ठा करता हूँ
उन बादलों को
जो छितरा गए हैं तुम्हारे होठों से।

लटका देता हूँ उन्हें
अपनी स्मृति की दीवार पर
और इन्तज़ार करता हूँ
एक और दिन का।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल