भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँव की सुबह / निर्मल आनन्द

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिड़ियों से पहले
उठते बाबा

उनसे पहले उठ जाती है
उनकी खाँसी

उठते ही करते हैं धरती को प्रणाम
फिर रखते हैं पाँव धरती पर
फिर जागती हैं नींद से
अंधेरे में डूबी गलियाँ

जागते हैं घर
जागता है गाँव ।