भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गांधी बाबा / मनोज पुरोहित ‘अनंत’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गांधी बाबा
राम-राम !
थां रा दरसण
म्हानै भावै
थूं ई छप-छप
नोटां में आवै
थारा गुण
बोटां में गावै
थूं ई राम
थूं ई रहीम
थूं ई वाहे गुरू
पण थारा अंदाज
भोत जुदा
थां री फोटू
जेब में
राजी सारा
सगळी ऐब में।
थां रो नाम
काढै काम
धरणों लागै
थारै घाट
नेता भोगै
पूरा ठाट

थारी टोपी
राजनीति टोपी
राजनीति री
गोपा-गोपी
नेता नाचै
कर-कर कोपी।