भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाछ बहुत छल / जीवकान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
गाछ बहुत छल, हम ने बिताओल राति एकहु टा गाछ तर

बहुत डेराइत रही मेघसँ, मेघक उमड़ल ज्वारिसँ
मोन ने भीजए, देहक रोइँ बचावी मीठ फुहारसँ
टुटलहबा घर छोड़ि ने सकलहुँ, ककरो कोनो बात पर।।1।।

गाछक तर जे हवा लगइ छइ, से नहि कहियो जानल
घोर अन्हरिया, साफ इजोरियामे नहि डेग बढ़ाओल
जगलो ठोकने रही केबाड़ी, टोलक हाहकार पर।।2।।

पहिला पहरक जाग-बतकही, पछिला पहरक ओंघी
दुपहिरयामे छाहरि, बरखामे लए घूमब घोघी
हम नहि जानल, खजन चिड़ैया राति कटइए डारि पर।।3।।