भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

गाड़ो तो रड़क्यो बालू रेत में / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गाड़ो तो रड़क्यो बालू रेत में
पोंचे बेन्या बई ना देस
चलो म्हारा धोरी उतावळा
म्हारी बेन्या बई जोवे वाट
धोरी ना चलक्या सींगड़ा
म्हारा बीराजी नी पचरंगी पाग
भोजायां नो चलवरयो चूड़लो
म्हारा भतीजा नो झगल्यो झूल
चलो म्हारा धोरी उतावळा