भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गालियाँ / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फ़ैक्टरी के मालिक ने

मेरे बेटे को गालियाँ दीं

हरामख़ोर...

सूअर की औलाद

कुत्ते...कमीने

और न जाने क्या-क्या

मेरा बेटा सुनता रहा

रोता रहा...


अब मैं अपने बेटे को गालियाँ दे रहा हूँ

उसने मालिक को

बराबर की गाली क्यों नहॊं दी

क्यों वह

मेरी ढलती उम्र

बीमार माँ

और स्कूल में पढ़ते भाई

के बारे में सोचता रहा

और रोता रहा ।