भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत-प्रदीप जलाए! / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने गीत-प्रदीप जलाए!
भव-सागर के तीर खड़े हों, काल-तरंगों पर तैराए!
मैंने गीत-प्रदीप जलाए!

इनमें पड़ी नेह की बाती,
ज्वाल-प्राण की स्वर्णिम थाती!
अमर ज्योति जग रही जगाजग, आँधी जिसको बुझा न पाए!
मैंने गीत-प्रदीप जलाए!

तैरा इन्हे, हटा आँचल-पट-
छोड़ चलूँगा मैं तो यह तट!
हिचकोले खाते डोलेंगे, जल पर भरमाए-भरमाए!
मैंने गीत-प्रदीप जलाए!

चिर प्रवाह में आह न जाने-
खों देंगे कब राह न जाने!
कौन प्राण में भर लेगा-जब बिलख उठेंगे कर फैलाए!
मैंने गीत-प्रदीप जलाए!

जाने कैसी लहर उठेगी-
दीपकमाला हहर उठेगी!
किसी गोद में सो जाएँगे, ये नादान-किसी के जाए!
मैंने गीत-प्रदीप जलाए!