भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत 11 / ग्यारहवां अध्याय / अंगिका गीत गीता / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

श्री भगवान उवाच-

कृष्ण कहलका महाकाल हम
सब लोकोॅ के नाश करै वाला हम छी समरथ विशाल हम।

सब लोकॉे के नाश करै के खातिर हम प्रवृत्त छी
ई प्रतिपक्षी सेना रण में कब तक रहत विदित छी
तों नै लड़वेॅ तैय्यो जानै छी एक्कर-अर अंतकाल हम
कृष्ण कहलका महाकाल हम।

हे अर्जुन, तों उठोॅ, युद्ध तों करोॅ और यश पावोॅ
भोग करोॅ धन-धान्य-राज्य तों, शूरवीर कहलावोॅ
सब प्रतिपक्षी महारथी के जानि रहल छी अंत-हाल हम
कृष्ण कहलका महाकाल हम।

सब प्रतिपक्षी शूरवीर छै हमरोॅ द्वारा मरलोॅ
तों केवल निमित्त मात्र छेॅ, धनुष-वाण के धरलोॅ
क्षत्र-कर्म के करोॅ आचरण, प्रकृति के अद्भुत मिसाल हम
कृष्ण कहलका महाकाल हम।