भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत 3 / दोसर अध्याय / अंगिका गीत गीता / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहलन कृष्ण, पार्थ भ्रम त्यागोॅ।
वाणी तोर कुशल ज्ञानी सन, उठोॅ मोह से जागोॅ।

पहिने भी हम सब रहियै रेॅ, आगे भी सब रहतै
नित्य आतमा छिकै जगत में, तन रहतै, नै रहतै
देहो से इक अपर देह छै ई सत से नै भागोॅ
कहलन कृष्ण, पार्थ भ्रम त्यागोॅ।

सुख-दुख, हरष-विषाद भेद के धीर पुरुष सम जानै
धीर पुरुष ही जग अनित्य अरु परम सत्य पहचानै
जगत असत् के त्याग करी तों परम सत्य से लागोॅ
कहलन कृष्ण, पार्थ भ्रम त्यागोॅ।