भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुफ़्तगू / किरण अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर मैं रख दूँ शब्द तुम्हारी गर्दन पर
ठीक जिबह होते जानवर की
गर्दन पर रखे चाकू की तरह
जानती हूँ
तुम मेरा कुछ नहीं बिगाड़ पाओगे
और यही करना है मुझे
तुमने किया है इस्तेमाल चाकू का
आदमी को मारने के लिए
मुझे करना है शब्दों का इस्तेमाल
धारदार चाकू की तरह
इज़ाद करनी है वह भाषा
जो मेरी क़लम के इशारों की चेरी हो
जब तक इन्सान और इन्सानियत के बीच
गुफ़्तगू न हो जाए शुरू
विश्वास जानो
तुम्हें चैन से नहीं बैठने देना मुझे