भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुरुबानी / राकेश रंजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खैनी-चूना बिन दुख दूना
सब जग सूना लागे है
मैं तो मैं ना ही हूँ, बचवा !
तू भी तू ना लागे है।

राम-नाम से जी उचटे है
जबसे डिबिया खतम भई
आकुल मनवाँ सिमरन-पथ से
किधरो-किधरो भागे है।

तू तो, बचवा ! दया-धरम का
बड़ा धनी है, कर्मठ है
नेम-जोग-व्रत-संजम में भी
सब भगतन से आगे है।

जा, बचवा, चुपके से लइहो
चमटोली से चुटकी भर
मेरा नाम न लीहो, कइहो —
नया भगतवा मांगे है।